Sunday, June 26, 2016

एक अफसाना

तरन्नुम-ए -वफ़ा के अफ़साने पुराने हैं 
लोग कहते हैं हम आप के दीवाने है, 
आँखों से बह निकले थे अश्क जो 
उनमे आज भी सपने सुहाने है 

मोहब्बत तो खेल है नसीबों का 
और हम तो बदनसीब पुराने है 
तरन्नुम-ए -वफ़ा के अफ़साने पुराने हैं 
लोग कहते हैं हम आप के दीवाने है

No comments:

Post a Comment