Monday, August 14, 2017

I

I am the master, I am the student 
I am the creator and the destroyer
I am the sculptor and the statue 
I am the universe and the life within 

I who am blind am the vision 
I am the danger and the survival
I lies within, I cannot be destroyed 
I is the voyage abs the treasure

I is the resonance and the interference 

'I' is the enlightenment

Friday, June 2, 2017

जीवन का परिधान

दिनकर सा रोशन, रजनीश सा शालीन,
आसमान सा विशाल, नीला, गोया कालीन।
अर्थ से विहीन, निष्कर्ष से परे,
जीवन का परिधान।

सृष्टि की विवेचना, कवी की कल्पना,
गीत सा मधुर, पवन, सुरों की साधना।
योगी का त्याग, किसी सूफी का राग,
जीवन का परिधान।

रात का अंधकार, सुबह का उजाला,
आत्म-मंथन से जना, अमृत-रस का प्याला।
उत्तेजना से भयभीत, मृदुलता से संतुष्ट,
जीवन का परिधान।

Sunday, May 28, 2017

राहगिर

बड़ी दूर चले आएं हैं हम।

चलते - चलते,
गिरते - संभलते ,
कभी ठोकर खाते,
कभी हँसते, कभी हॅसातें,
कभी दिलों को बहलाते,
अधूरी तमन्नाओं से
दिल को समझाते,
कभी मज़िलों की तलाश में,
कभी दिल की दबी,
अनसुनी आवाज़  से

बड़ी दूर चले आएं हैं हम।